Friday, March 28, 2008

Mine

I thought,
I would forget,
But,I could not,
I am still trying hard,
To make it a forgotten past,
But, when I lie down on my bed,
When I try to sleep and relax,
It ignites my dark mind like a candle of wax,
The flame lights my inside,
Then I feel her sitting on the chair lying beside,
I hold her hand,
She smiles and looks at my face,
That one smile gives me the solace,
The next wink and the night takes the bow,
And princess of light comes with a rainbow,
Everything looks fine,
But, I always miss something mine,
Something which in my memories always shines,
I know, one day it will be mine...


Cheers!!!

2 Comments:

Anonymous Anonymous said...

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

जीवन अस्थिर अनजाने ही, हो जाता पथ पर मेल कहीं,
सीमित पग डग, लम्बी मंज़िल, तय कर लेना कुछ खेल नहीं।
दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते, सम्मुख चलता पथ का प्रसाद –
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

साँसों पर अवलम्बित काया, जब चलते-चलते चूर हुई,
दो स्नेह-शब्द मिल गये, मिली नव स्फूर्ति, थकावट दूर हुई।
पथ के पहचाने छूट गये, पर साथ-साथ चल रही याद –
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

जो साथ न मेरा दे पाये, उनसे कब सूनी हुई डगर?
मैं भी न चलूँ यदि तो क्या, राही मर लेकिन राह अमर।
इस पथ पर वे ही चलते हैं, जो चलने का पा गये स्वाद –
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

कैसे चल पाता यदि न मिला होता मुझको आकुल अंतर?
कैसे चल पाता यदि मिलते, चिर-तृप्ति अमरता-पूर्ण प्रहर!
आभारी हूँ मैं उन सबका, दे गये व्यथा का जो प्रसाद –
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद

April 6, 2008 at 1:17 AM  
Blogger Piyushkg said...

Tumhare saath yeh sab kab hua :-?

April 11, 2008 at 5:04 AM  

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home